9 Sep 2017

Birthday: अक्षय ने रिलीज किया ‘गोल्ड’ का पोस्टर, जानें 12 अनसुनी कहानियां

अक्षय कुमार अपना 50वां बर्थडे मना रहे हैं। बॉलीवुड में अक्षय कुमार ‘खिलाड़ी’ के नाम से फेमस हैं।

‘गोल्ड’ का पोस्टर और अक्षय कुमार के पोस्ट

मुंबई. अक्षय कुमार अपना 50वां बर्थडे मना रहे हैं। बॉलीवुड में अक्षय कुमार ‘खिलाड़ी’ के नाम से फेमस हैं। उन्होंने एक्‍शन, कॉमेडी, ड्रामा से लेकर रोमांस यानि हर तरह की फिल्‍में की हैं। बर्थडे के खास मौके पर अक्षय ट्विटर पर खास एक्टिव दिख रहे हैं। एक तरफ जहां उन्होंने अपनी फिल्म ‘गोल्ड’ का पहला पोस्टर रिलीज किया। तो वहीं दूसरी ओर उन्होंने कुछ और मज़ेदार पोस्टर करते हुए अपने बर्थडे के बारे में बताया। दरअसल अक्षय ने ट्वीट्स की सीरीज कर यह बताया कि उनके पैदा हुए 50 दशक, 600 महीने, 2,607 महीने, 18, 250 दिन हो गए हैं। यहां तक की घंटो और मिनटों का भी हिसाब अक्षय ने सोशल मीडिया पर पोस्‍ट किया है। बता दें अक्षय की फिल्म ‘गोल्ड’ 15 अगस्त 2018 को रिलीज होगी। बर्थडे के खास मौके परDainikBhaskar.comआपको बताएगा अक्षय कुमार की जिंदगी की कुछ अनसुनी कहानियां...



अमृतसर सेबैंकॉक वाया मुंबई

अक्षय कुमार का जन्म 9 सितंबर 1967 को अमृतसर में हुआ था। अक्षय कुमार का असली नाम राजीव हरीओम भाटिया है। दिल्ली के चांदनी चौक में बचपन गुजारने के बाद अक्षय मुंबई आए और डॉन बॉस्को स्कूल और गुरुनानक खालसा कॉलेज में पढ़ाई की। बता दें अक्षय, ब्रूस ली के दीवाने थे। वो बच्चों को मार्शल आर्ट सिखाना चाहते थे। जब उन्होंने ये बात अपने पापा को बताई तो उनके पापा ने लोन लेकर उन्हें कुछ पैसे दिए और बैंकॉक भेज दिया।

टीचर को दिल दे बैठे थे अक्षय कुमार

जब अक्षय स्कूल में थे तो उन्हें अपनी स्कूल की एक मैडम से प्यार हो गया था। इस बारे में अक्षय कहते हैं कि हर किसी को पहला प्यार स्कूल टीचर से ही होता है और अगर न हो तो आप में कुछ गड़बड़ है (हंसते हुए)। यही नहीं अक्षय को ना सिर्फ अपनी टीचर से प्यार हुआ था बल्कि वो अपना होमवर्क तक दूसरी फ्रेंड से करवाते थे।


बैंकॉक में स्ट्रीट फाइट करता था, बहुत पिटाई भी खाई है

मुंबई से मार्शल आर्ट सीखने के लिए अक्षय बैंकॉक चले गए थे। लेकिन रोजी रोटी के लिए पैसों की जरूरत थी लिहाजा अक्षय ने वहां के एक होटल में वेटर का काम करना शुरु कर दिया। यही नहीं इसके साथ ही वो वहां स्ट्रीट फाइट्स भी लड़ते थे, जिस वजह से उन्हें बहुत पिटाई भी खानी पड़ती थी हालांकि कुछ फाइट्स वो जीत भी जाते थे।


जब पिता के थप्पड़ के जवाब में अक्षय ने कहा था- हीरो बनूंगा

बचपन में हर किसी को मार पड़ी है। ऐसे ही अक्षय कुमार भी बचपन में बहुत पिटे हैं और वजह होती थी पढ़ाई में कमजोर होना। ऐसे ही एक बार अक्षय के पिता ने उन्हें जोरदार थप्पड़ मारा था और कहा था कि पढ़ेगा लिखेगा नहीं तो क्या करेगा। तब छोटे से अक्षय ने जवाब दिया था ‘हीरो बनूंगा’। खैर उस वक्त तो अक्षय को भी नहीं मालूम होगा की उनकी ये बात सच हो जाएगी।


जब कुंदन की ज्वैलरी दिल्ली से मुंबई बेचते थे अक्षय

जब अक्षय मुंबई में थे तो तंगी के दौरान उनको पैसे की जरुरत रहती थी। तब अक्षय ने दिल्ली से कुंदन की ज्वैलरी खरीदना शुरु किया और उसको मुंबई में बेंचना। यही काम अक्षय ने बैंकॉक और दिल्ली के बीच भी किया। अक्षय बैंकॉक से सामान दिल्ली और दिल्ली से बैंकॉक सामान बेंचते थे।


ऐसे राजीव भाटिया बने अक्षय कुमार

अक्षय कभी नहीं चाहते थे कि वो फिल्मों में हीरो बनें। वो तो चाहते थे कि उन्हें कोई भी छोटा मोटा रोल मिल जाए। बता दें अक्षय अपनी पहली फिल्म में हीरोइन के ट्रेनर थे। वहीं फिल्म ‘आज’ में उन्होंने छोटा सा रोल किया। इसी फिल्म में हीरो का नाम अक्षय था। बस फिर क्या था अचानक एक दिन अक्षय कोर्ट गए और उन्होंने अपना नाम बदल अक्षय कुमार रख लिया।


राजेश खन्ना से मुलाकात

बता दें अक्षय कुमार, राजेश खन्ना के दामाद बनने से काफी पहले एक बार उनसे काम मांगने के लिए भी गए थे लेकिन मौका मिला था किसी दूसरे एक्टर को। दरअसल 1990 में एक फिल्म आई थी ‘जय शिव शंकर’, इस फिल्म को राजेश खन्ना प्रोड्यूस कर रहे थे और इसमें वे काम भी कर रहे थे। उन्हें एक रोल के लिए एक्टर की तलाश थी। अक्षय कुमार को पता चला कि राजेश के ऑफिस में इस रोल के लिए ऑडिशन चल रहे हैं तो वे वहां भाग्य आजमाने पहुंच गए। अक्षय की राजेश खन्ना से मुलाकात हुई लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था और यह रोल चंकी पांडेय को मिल गया।


फिल्मों के सेट के फर्नीचर और मेरी एक्टिंग में कोई फर्क नहीं है

जब अक्षय ने फिल्मों में एक्टिंग की शुरुआत की थी तो वो ऐसा मानते थे की सेट पर रखे हुए फर्नीचर और उनकी एक्टिंग में कोई फर्क नहीं है। यहां तक की महेश भट्ट ने एक बार ये भी कहा था किस अक्षर एक्टिंग करवानी है तो किसी और को लेलो फिल्मों में और अगर एक्शन करवाना है तो अक्षय चलेगा। बता दें अक्षय ने बैक टू बैक 16 फ्लॉप फिल्मे दी थी। इस बारे में अक्षय कहते हैं कि इसके बाद भी उन्हें फिल्में मिल रही थी तो सिर्फ उनके डिसिप्लिन की वजह से।


‘रुस्तम’है अभी तक की सबसे खास फिल्म

अभी तक के फिल्मी करियर में अक्षय कुमार ‘रुस्तम’ को सबसे खास फिल्म मानते हैं। बता दें की फिल्म ‘रुस्तम’ के लिए अक्षय को नेशनल फिल्म अवार्ड मिला है। इस बारे में अक्षय बताते हैं कि वैसे उन्हें कोई दुख नहीं होता कि उन्हें अवार्ड मिलता है या नहीं क्योंकि वो ईमानदारी से अपनी फिल्मों में काम करते हैं और पूरे बॉलीवुड में किसी भी एक्टर से जल्दी फिल्म का शूट खत्म कर देते हैं। लेकिन अवार्ड का दुख उन्हें तब होता था जब उनकी पत्नी ट्विंकल खन्ना उनसे इस बारे में कहती थीं। ट्विंकल कहती थीं कि मेरे परिवार में सभी को नेशनल फिल्म अवार्ड मिला है, तुम कब लेकर आओगे।


अवार्ड शो में आधे पैसे लेकर अवार्ड ले लो

अक्षय ने एक से बढ़कर एक फिल्म की है। लेकिन अक्षय को कभी अवार्ड्स में बड़ा नाम और अवार्ड नहीं मिला। हालांकि इसको लेकर एक बार सोशल मीडिया पर बवाल भी मचा था। इस बारे में अक्षय कुमार हंसते हुए कहते हैं कि अवार्ड वाले कहते हैं कि आप अवार्ड शो में आधे पैसे में परफॉर्म करो और हम आपको अवार्ड दे देंगे, लेकिन मैं कह देता हूं अवार्ड मत दो लेकिन पैसे पूरे दे देना।



रानी के अलावा सबके साथ किया है काम

अक्षय ने अपने फिल्मी करियर में अभी तक करीबन 140 फिल्में की है और लगभग हर एक्ट्रेस के साथ काम किया है। फिर पूराने दौर में चाहे वो करिश्मा कपूर हो, जूही चावला हो, तब्बू हो, शिल्पा शेट्टी हो या फिर रेखा हो, वहीं नए दौर में भी इलियाना डी क्रूज़, एमी जैक्सन, भूमि पेडनेकर, कैटरीना कैफ, प्रियंका चोपड़ा, ऐश्वर्या राय बच्चन, नर्गिस फाकरी, करीना कपूर खान या फिर सोनाक्षी सिन्हा। लेकिन इन सब के बीच एक ऐसी एक्ट्रेस है जिसने तीनों खान के साथ काम किया है लेकिन अक्षय कुमार के साथ नहीं। दरअसल गौर किया जाए तो रानी मुखर्जी और अक्षय ने एक भी फिल्म में साथ काम नहीं किया है।


जिस घर के बाहर फोटोशूट किया था आज उस बंगले के मालिक हैं अक्षय

बता दें मॉडलिंग के दिनों में एक बार अक्षय कुमार एक बंगले की दीवार पर शूटिंग कर रहे थे लेकिन वहां के गार्ड ने उन्हें भगा दिया था। लेकिन वक्त बदला और आज वो बंगला अक्षय कुमार का है। इस बारे में अक्षय कहते हैं कि उन्होंने ऐसा कुछ सोचा नहीं था कि वो बंगला खरीद ही लेंगे लेकिन किस्मत ने साथ दिया और काम बनते गए।

Source - Danik Bhaskar

Follow by Email