8 Sep 2017

डेरे की प्रवक्ता ने पहली बार खोला, मानव अंगों की तस्करी का सच


दावा किया जा रहा है कि राम रहीम के डेरा सच्चा सौदा में मानव अंगों की तस्करी की जाती थी। इस पर भी डेरे की प्रवक्ता से सफाई पेश की, जानिए वे क्या बोलीं। 


डेरे की प्रवक्ता विपासना इंसां का कहना है कि मानव अंगों की तस्करी की जो बात कही जा रही है, वे बेबुनियाद है। डेरा प्रेमी स्वेच्छा से मरणोपरांत प्रियजनों के शरीर दान करते हैं। डेरा इन्हें देश के विभिन्न मेडिकल कॉलेजों में विधिक प्रक्रिया के तहत भेज देता है। 

डेरे की प्रवक्त का है कि शाह सतनाम सिंह जी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल में आई बैंक, ब्लड बैंक, स्किन बैंक और बोन बैंक की स्थापना कानूनी तौर पर हुई है। यहां सभी काम पूरी तरह से पारदर्शी होते हैं और प्रशासनिक देख-रेख में किए जाते हैं। अब तक यहां पर हजारों लोगों का इलाज किया जा चुका है। 


गौरतलब है कि डेरे में मानव अंगों की तस्करी की बात कही जा रही है, जिसके लिए एक गिरोह सक्रिय था। यह काम शाह सतनाम जी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल में होता था। वहां डॉक्टरों की एक टीम काम करती थी। 

बताया जा रहा है कि डेरे में किसी की मौत हो जाने पर अंगदान करने का नियम बनाया गया था। सेवादारों से डेरा में समर्पण के लिए शपथ पत्र भी लिखवाया जाता था। उसके मुताबिक डेरा में जब किसी भक्त की मौत हो जाती थी, तब राम रहीम रोता नहीं बल्कि हंसता था।

Source - Amarujala

Follow by Email