बनावटीपन फिल्म को बेकार बनाता है: इम्तियाज


artificiality in film makes it redundant says director imtiaz ali

इम्तियाज अली

फिल्म 'जब वी मेट' को रिलीज हुए एक दशक हो गए हैं लेकिन कई बॉलिवुड फैन्स के जेहन में यह फिल्म आज भी ताजा है। इस फिल्म के डायरेक्टर इम्तियाज अली का कहना है कि किसी फिल्म को यादगार बनाने के लिए उसे साफगोई के साथ पेश करना महत्वपूर्ण है।

इम्तियाज ने बताया, 'जब आप कोई फिल्म बनाते हैं तो आप अपना सबसे अच्छा देते हैं। आप अच्छा लिखते हैं, उसे बिल्कुल नया और मनोरंजक बनाने की कोशिश करते हैं। मैंने एक बात महसूस की है कि अगर आप फिल्म में बनावटीपन डालते हैं और उस समय के लिए मसालेदार बनाने की कोशिश करते हैं तो यह चीजें बहुत जल्द ही अनावश्यक दिखनी शुरू हो जाती हैं।'

इम्तियाज ने कहा कि याद रखे जाने के लिए फिल्म को साफ-सुथरी रखना बेहद जरूरी है। वहीं, अगली फिल्म के सवाल पर उन्होंने कहा, 'मैं दो फिल्मों पर काम कर रहा हूं और दोनों ही फिल्मों को एक साथ बनाना चाहता हूं।'

बता दें, इम्तियाज के निर्देशन में आई उनकी आखिरी फिल्म 'जब हैरी मेट सेजल' बॉक्स ऑफिस पर कुछ खास कमाल नहीं कर सकी थी। उसके पहले उनकी 'लव आज कल', 'रॉकस्टार' और 'हाइवे' जैसी फिल्मों को दर्शकों और क्रिटिक्स का अच्छा रिस्पॉन्स मिला था।
Source - Navbharat Times

Follow by Email