दुनिया के कई देशों को आधी कीमत पर पेट्रोल डीजल बेच रहा है भारत, जानिए



भारत में पेट्रोल और डीजल की लगातार बढ़ती कीमतों से हाहाकार मचा है। इस बीच, सूचना के अधिकार के तहत हैरान करने वाली जानकारी सामने आई है। एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबित, आरटीआई से पता चला है कि भारत 15 देशों को 34 रुपए प्रति लीटर के हिसाब से पेट्रोल और 29 देशों को 37 रुपए प्रति लीटर के हिसाब से डीजल निर्यात कर रहा है। इसी पेट्रोल और डीजल पर सरकार 125 से 150 फीसद तक टैक्स लगाकर अपनी ही जनता को बेच रही है।


आरटीआई से मिली बड़ी जानकारी

- पंजाब के रोहित सभ्रवाल की आरटीआई से पता चला है कि मैंग्लोर रिफाइनरी एंड पेट्रोकेमिकल्स लिमि. से 1 जनवरी 2018 से 30 जून 2018 के बीच पांच देशों - हांगकांग, मलेशिया, मॉरिशस, सिंगापुर और यूएई को 32 से 34 रुपए प्रति लीटर में रिफाइंड पेट्रोल और 34 से 36 रुपए में रिफाइंड डीजल बेचा गया। इस दैरान भारत में पेट्रोल की कीमत 69.97 रुपए से 75.55 रुपए प्रति लीटर और डीजल की कीमत 59.70 रुपए से 67.38 रुपए प्रति लीटर रही।

इन पांच देशों के अलावा अमेरिका, इंग्लैंड, ईराक, इजराइल, जॉर्डन, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ्रीका में भारत से रिफाइन्ड पेट्रोल-डीजल निर्यात किया जाता है।

...और देशवासियों पर 150 फीसद तक टैक्स

रोहित सभ्रवाल कहते हैं, बाकी देशों को भारत से भले ही बेहद सस्ता रिफाइंड पेट्रोल-डीजल मिल रहा हो, लेकिन यहां के लोगों पर 125 से 150 फीसद तक टैक्स लगाया जा रहा है। यही कारण है कि भारत के अधिकांश राज्यों में पेट्रोल 75 से 82 रुपए लीटर और डीजल 66 से 74 रुपए लीटर तक बेचा जा रहा है। ताजा खबर तो यह भी है कि सरकार ने पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे में लेने से इन्कार कर दिया है। यानी दाम कम होने की यह उम्मीद भी खत्म हो गई है।

कांग्रेस ने दिया राजनीतिक रंग

इस आरटीआई के बहाने कांग्रेस ने मामले को राजनीति रंग देना शुरू कर दिया है। पार्टी प्रवक्ता रणदीप सूरजेवाला ने यह जानकारी ट्वीट करते हुए लिखा, 'RTI ने खोली भाजपा की पोल, दूसरे देशों को मोदी सरकार बेच रही सस्ता डीज़ल-पेट्रोल'। हालांकि यह बात ओर है कि कांग्रेस के राज में भी पेट्रोल-डीजल पर टैक्स कुछ कम नहीं था, लेकिन अब भाजपा सरकार को कोसा जा रहा है।



देश की कमाई अच्छी, पर नागरिकों को भी मिले राहत

भारत कच्चा तेल खरीदता है और उसे रिफाइन कर बाकी देशों को बेचता है। इससे कमाई होती है। 2017 में भारत ने 24.1 बिलियन डॉलर का रिफाइंड तेल निर्यात किया था। इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन के मुताबिक, बीती 20 अगस्त को भारतीय कंपनियों ने 35.90 रुपए प्रति लीटर में कच्चा पेट्रोल और 38.25 रुपए प्रति लीटर में कच्चा डीजल खरीदा था, जिसे रिफाइंड कर क्रमशः 37.93 रुपए प्रति लीटर और 41.04 रुपए प्रति लीटर में बेचा गया।

यह कीमत अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मांग और आपूर्ति के आधार पर तय होती है। प्रतिस्पर्धा ज्यादा होने के कारण भी ये दाम भारतीय कंपनियों के हाथ में नहीं होते।

यही 35.90 रुपए प्रति लीटर वाला कच्चा पेट्रोल रिफाइन करने के बाद भारत में 77 से 82 रुपए लीटर हो जाता है, क्योंकि इसमें करीब 19.48 रुपए की एक्साइज ड्यूटी, 16.47 रुपए प्रति लीटर का VAT, अन्य टैक्स और डीलर कमीशन शामिल हो जाता है। डीजल पर भी ये सभी टैक्स लगते हैं।

Source - Jagran 


Follow by Email