नए ट्रेंड की ये शादी बनी मिसाल, दुल्हन ने दूल्हे को पहनाया ‘मंगलसूत्र’

नए ट्रेंड की ये शादी बनी मिसाल, दुल्हन ने दूल्हे को पहनाया ‘मंगलसूत्र’

हिंदू धर्म में शादियों के दौरान कई रीति रिवाजों का पालन किया जाता है. फेरे, कन्या दान, सिंदूरदान, जयमाला, गठ बंधन, मंगलसूत्र आदि रीति रिवाजों का काफी महत्व होता है. लेकिन तेजी से बदल रहे जमाने के साथ शादी की रस्में और रीति-रिवाजों में भी परिवर्तन आ रहा है.
हमेशा आपने दूल्हे को दुल्हन को मंगलसूत्र पहनाते देखा होगा. लेकिन हाल ही में कर्नाटक में दो कपल्स ने अनोखे तरीके से शादी रचाई. इस शादी में दूल्हों ने दुल्हनों को मंगलसूत्र पहनाया. इसके बाद दोनों दुल्हनों ने भी अपने-अपने दूल्हे को मंगलसूत्र पहनाकर सबको चौंका दिया.
Also Read - HOW TO FLUSH KIDNEY STONES NATURALLY WITH JUST FOUR INGREDIENTS

हिंदू धर्म में मंगलसूत्र को सुहाग की निशानी माना जाता है. शादीशुदा महिलाएं अपने पति की रक्षा के लिए मंगलसूत्र पहनती हैं. लेकिन दुल्हन द्वारा दूल्हे को मंगलसूत्र पहनाने की ये नई प्रथा युवा पीढ़ी की नई सोच को दर्शाती है.
रिपोर्ट के मुताबिक, दोनों कपल्स कर्नाटक के विजयपुरा जिले के रहने वाले हैं. इन दोनों कपल्स ने दुनिया के सामने लैंगिक समानता (Gender Equality) की एक नई मिसाल कायम की है.
ये दोनों कपल्स अलग-अलग जाति से ताल्लुक रखते हैं. इनकी शादी ना तो मुहूर्त के हिसाब से हुई और ना ही इन लोगों की शादी में कन्यादान की रस्म हुई, क्योंकि इनका मानना है कि कन्या कोई संपत्ति नहीं है, जिसे दान किया जाए.
इस अनोखी शादी में कई लोगों ने शिरकत की और शादीशुदा जोड़ों को अपना आशीर्वाद दिया.
Source - Aaj Tak

Manohar Parrikar Is India’s 18th Chief Minister To Die While In Office

Manohar Parrikar Is India’s 18th Chief Minister To Die While In Office

Manohar Parrikar, who died at his private residence on Sunday evening after a prolonged battle with pancreatic cancer, became India's 18th and Goa's second Chief Minister to die in office.

Mr Parrikar, 63, was the first Bharatiya Janata Party leader to be Goa Chief Minister. He headed the state from 2000-05 and 2012-14, before joining the Narendra Modi government as Defence Minister from 2014 before returned to state politics in 2017 to lead a coalition government.
Before Mr Parrikar, 17 Chief Ministers including Tamil Nadu's J Jayalalitha, Jammu and Kashmir's Sheikh Abdullah and Mufti Mohammad Sayeed, and Andhra Pradesh's YS Rajasekhara Reddy died in harness.
Gopinath Bordoloi (Assam): The first Chief Minister of Assam, he worked closely with Sardar Vallabhbhai Patel to secure its sovereignty against China and Pakistan (as then East Pakistan bordered it) on the other before his death in 1950.
Ravishankar Shukla (Madhya Pradesh): A freedom fighter who laid special emphasis on the uplift of women and was a staunch opponent of illiteracy, purdah and dowry system, he became the first Chief Minister of the central state in 1956 but died two months into his stint.
Sri Krishna Singh (Bihar): The first Chief Minister of Bihar, Sinha held the post right from when Congress won the elections under British rule in 1937 to 1961, save the World War II period.
Bidhan Chandra Roy (West Bengal): An eminent freedom fighter and qualified doctor, he was the second Chief Minister of West Bengal. After Independence, the Congress proposed his name as the state's Chief Minister but he declined since he was more dedicated to his medical profession. However, on Mahatma Gandhi's insistence, he accepted the position in January 1948 and held the post until his death in 1962.
Marotrao Kannamwar (Mahrashtra): The second Chief Minister of the newly-created state, he succeeded YB Chavan in 1962 but died after a stint of only one year and four days.
Balwantrai Mehta (Gujarat): Succeeding Jivraj Narayan Mehta as Chief Minister on February 25, 1963, Jivraj Narayan Mehta is the only Indian Chief Minister to become a war casualty. During the 1965 India-Pakistani War, his civilian aircraft was shot down by the Pakistan Air Force on September 19, 1965 as he was returning from a border area, killing him and all others aboard.
CN Annadurai (Madras/Tamil Nadu): Popularly known as 'Anna', he left an indelible mark not only on Tamil politics and society, but also national politics. The fifth and last Chief Minister of Madras from 1967 until 1969, he became the first Chief Minister of Tamil Nadu when the name of the state was changed but only held the post for 20 days. Annadurai, who had travelled to New York for medical treatment for cancer in September 1968 and underwent an operation, returned to Chennai in November and continued to attend official functions against medical advice. His health deteriorated further and he died in February 1969.
Dayanand Bandodkar (Goa): Popularly known as Bhausaheb Bandodkar, he was Goa's first Chief Minister after liberation from Portuguese rule. He swept the polls in 1963, 1967 and in 1972 at the head of the Maharashtrawadi Gomantak Party (MGP) and remained in power until his death in 1973.


Barkatullah Khan (Rajasthan): The only Muslim Chief Minister of Rajasthan, Mr Khan died of a heart attack while in office, at 53 years. He was Chief Minister from July 9, 1971 to October 11, 1973.
Sheikh Abdullah (Jammu and Kashmir): Known as "Sher-e-Kashmir", Mr Abdullah was the founder of the Jammu and Kashmir National Conference and held the post of Chief Minister three times between Jammu and Kashmir's accession to India and the early 1980s, amid a turbulent relationship with the Central government and several spells of imprisonment. He was in power when he died in 1982.
MG Ramachandran (Tamil Nadu): Popularly known as MGR, he dominated Tamil films and politics. The first film actor to become a Chief Minister, he headed Tamil Nadu for 10 years from 1977, save a six-month interregnum in 1980 when his government was dismissed by the Centre, till his death in 1987.
Chimanbhai Patel (Gujarat): Replacing Ghanshyam Oza as Chief Minister in July 1973, he only served in office till February 9, 1974 being forced out of office by the 'Nav Nirman' movement on charges of corruption. He again became the Chief Minister on March 4, 1990 as a part of the VP Singh-led National Front but later switched over the the Congress, and continued in power till his death on February 17, 1994.
Beant Singh (Punjab): Credited with stamping out militancy in Punjab after becoming Chief Minister in 1992, he was assassinated when a suicide attack at the Secretariat building in Chandigarh on August 31, 1995.
YS Rajasekhara Reddy (Andhra Pradesh): Popularly known as YSR, Mr Reddy was a two-time Chief Minister of Andhra Pradesh (2004-2009). However, early in his second stint, his helicopter crashed in a dense forest in Chitoor district on September 3, 2009.
Dorjee Khandu (Arunachal Pradesh): He became the Chief Minister of Arunachal Pradesh replacing Gegong Apang in 2007. He was again sworn as Chief Minister in October 2009 but died on April 30, 2011 when the helicopter in which he was returning to Itanagar from a trip to Tawang crashed.
Mufti Mohammad Sayeed (Jammu and Kashmir): A two-time Chief Minister, Mr Sayeed, who led the first coalition government in Jammu and Kashmir involving the BJP, died on January 7, 2016. India's first Muslim Home Minister in the VP Singh government, Mr Sayeed became Chief Minister for the first time in 2002-05 in a coalition government with the Congress. In his second stint, he allied with the BJP to become the chief minister.
J Jayalalitha (Tamil Nadu): Jayalalithaa, who died on December 5, 2016 in her fifth stint as Chief Minister, held the post for over 14 years between 1991 and 2016. Affectionately called "Amma" by fans and party activists, Jayalalithaa became the Chief Minister of Tamil Nadu in 1991. She again returned to power in 2001 but had to step down after her name figured in a court case. After being cleared, she took over again in 2002 and ruled till 2006.
She wrested the state from the DMK in 2011, but had to step down in September 2014 after being convicted in a corruption case by a Bengaluru court. Acquitted, she took back the reins in May 2015 and led her party back to power in 2016. When she was admitted to Apollo Hospitals in Chennai on September 22, 2016, no one believed that she would come out of it in a coffin.
Source - NDTV

अब सरकारी नहीं रहा देश का यह बैंक, लाखों ग्राहकों पर पड़ेगा असर!

अब सरकारी नहीं रहा देश का यह बैंक, लाखों ग्राहकों पर पड़ेगा असर!

अगर आप IDBI बैंक के ग्राहक हैं तो आपके लिए एक जरूरी खबर है. दरअसल, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने पब्‍लिक सेक्‍टर के IDBI बैंक को प्राइवेट सेक्‍टर के बैंक की कैटेगरी में रख दिया है. आसान भाषा में समझें तो IDBI अब प्राइवेट बैंक की तरह काम करेगा. आइए जानते हैं कि आखिर क्‍यों यह फैसला लिया गया है और इसका ग्राहकों पर क्‍या असर हो सकता है.
दरअसल, भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) की कर्ज में डूबे IDBI बैंक में 51 फीसदी की हिस्सेदारी हो गई है. एलआईसी की यह हिस्‍सेदारी IDBI बैंक को कर्ज से उबारने के लिए है.
यही वजह है कि RBI ने IDBI को प्राइवेट बैंक की कैटेगरी में डाल दिया है. आरबीआई ने कहा कि एलआईसी के आईडीबीआई बैंक में चुकता शेयर पूंजी का 51 प्रतिशत अधिग्रहण के बाद बैंक को निजी श्रेणी में डाला गया है. बता दें कि पब्‍लिक सेक्‍टर के बैंकों में सरकार की न्‍यूनतम 51 फीसदी की हिस्‍सेदारी होती है .IDBI की वेबसाइट के मुताबिक 1892 ब्रांच हैं जबकि 1407 सेंटर हैं.वहीं बैंक के ATM, 3705 हैं. बैंक से लाखों ग्राहक जुड़े हैं.
Also Read - GOT YOUR SALARY? HERE’S THE FIRST THING YOU SHOULD DO

पंजाब एंड सिंध बैंक के पूर्व चीफ जनरल मैनेजर जीएस ​बिंद्रा के मुताबिक आरबीआई के इस फैसले का ग्राहकों पर कुछ खास असर नहीं पड़ने वाला है. हालांकि प्राइवेट होने के बाद IDBI बैंक के बोर्ड को कुछ अतिरिक्‍त अधिकार जरूर मिल जाएंगे.
वहीं एसबीआई के पूर्व सीजीएम सुनील पंत ने बताया कि इस फैसले के बाद बैंक का बोर्ड स्‍वतंत्र और प्रोफेशनल बन सकता है और नियमों के अधीन ग्राहकों को फायदा पहुंचाने वाले फैसले ले सकता है. उन्‍होंने कहा कि एलआईसी भी सार्वजनिक क्षेत्र की जरूर है लेकिन वह पूर्णत: सरकारी नहीं मानी जाती है. ऐसे में सरकार का डायरेक्‍ट दखल भी नहीं रह जाएगा.
IDBI बैंक को आरबीआई के तत्काल सुधारात्मक कार्रवाई रूपरेखा के अंतर्गत रखा गया है. यह कंपनियों को दिये जाने वाले लोन और शाखा विस्तार, वेतन वृद्धि के अलावा अन्य नियमित गतिविधियों पर रोक लगाता है.
IDBI बैंक ने हाल ही में ग्राहकों की सुविधा को ध्‍यान में रखकर एक फैसला लिया है. इसके तहत ग्राहकों को बैंक आने वाले दिनों में एक ही मंच के जरिए बैंकिंग और बीमा सेवाएं मुहैया करा सकता है. इस वजह से बेहतर ऑपरेशंस और बेहतर फाइनेंसिंग का रास्ता खुलेगा
चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में IDBI बैंक ने 4,185 करोड़ रुपये का नुकसान दर्ज किया है. इस दौरान बैंक की कुल आय घटकर 6,190.94 करोड़ रुपये रह गई, जबकि एक साल पहले की समान तिमाही में बैंक की आय 7,125.20 करोड़ रुपये थी.
Source - Aaj Tak

19 मार्च को भारत में लॉन्च हो रहा है Redmi Go, ये होंगे फीचर्स

19 मार्च को भारत में लॉन्च हो रहा है Redmi Go, ये होंगे फीचर्स

चीनी स्मार्टफोन मेकर Xiaomi का पहला Android Go स्मार्टफोन भारत में लॉन्च हो रहा है. Redmi Go को कंपनी ने हाल ही में दूसरे देशों में पेश किया है. भारत में इस एंट्री लेवल स्मार्टफोन को 19 मार्च को लॉन्च किया जा रहा है. कंपनी ने मीडिया इन्वाइट्स भेजने शुरू किए हैं और लॉन्च इवेंट दिल्ली में आयोजित किया जाएगा.
आपको बता दें कि ये Xiaomi का अब तक का भारत में सबसे सस्ता स्मार्टफोन हो सकता है. शाओमी इंडिया हेड मनु जैन ने हिंदी में ट्वीट किया है. कंपनी ने इसके लिए माइक्रो साइट भी तैयार की है जहां काउंटडाउन शुरू कर दिया गया है. इस फोन में Android Go एडिशन दिया जाएगा.
Redmi Go के स्पेसिफिकेशन्स की बात करें तो इसमें Qualcomm Snapdragon 425 प्रोसेसर दिया गया है. इसमें 5 इंच की एचडी डिस्प्ले दी गई है. इसमें 1GB रैम और 8GB की इंटर्नल मेमोरी दी गई है जिसे माइक्रो एसडी कार्ड के जरिए बढ़ाया जा सकता है. हालांकि इसके दूसरे वेरिएंट में 1GB रैम के साथ 16GB की है. यह दो वेरिएंट में मिलेगा और इसके ब्लू और ब्लैक कलर ऑप्शन्स मिलेंगे.
Also Read - YOUR EX AND 6 OTHER PEOPLE YOU SHOULD STOP STALKING ON SOCIAL MEDIA

Redmi Go में 8 मेगापिक्सल का रियर कैमरा दिया गया है, जबकि सेल्फी के लिए इसमें 5 मेगापिक्सल कैमरा दिया गया है. इसमें कई तरह के रियल टाइम फिल्टर्स हैं और कैमरा एचडीआर भी सपोर्ट करता है. एलईडी फ्लैश भी है जो कम रौशनी में फोटॉग्रफी के लिए दिया गया है. इस फोन के कैमरे से फुल एचडी वीडियो रिकॉर्ड किए जा सकते हैं. माइक्रो एसडी कार्ड के जरिए मेमोरी बढ़ाई जा सकती है.
कीमत की बात करें तो यह स्मार्टफोन फिलिपिंस में PHP 3,990 (5,400 रुपये) में प्री ऑर्डर के लिए उपलब्ध है. अब भारत में उम्मीद है ये 5,000 रुपये के अंदर ही लॉन्च हो सकता है. यह स्मार्टफोन खास कर फर्स्ट टाइम स्मार्टफोन यूजर्स को टार्गेट करेगा और इसकी बिक्री भी होगी. देखना होगा इस रेंज के दूसरे स्मार्टफोन की क्या स्ट्रैटिजी होती है.
Source - Aaj Tak

World Wide Web की खोज के पीछे थे ये शख्स, 5 प्वॉइंट्स में जानें कैसे आया WWW, बना Google Doodle

World Wide Web की खोज के पीछे थे ये शख्स, 5 प्वॉइंट्स में जानें कैसे आया WWW, बना Google Doodle

30th Anniversary Of The World Wide Web: वर्ल्ड वाइड वेब (World Wide Web) को 30 साल हो चुके हैं. गूगल (Google) 30वें बर्थडे (30th Anniversary Of The World Wide Web) को डूडल (Google Doodle) के जरिए सेलीब्रेट कर रहा है. 12 मार्च 1989 को ब्रिटिश भौतिक विज्ञानी टिम बर्नर्स ली (Tim Berners-Lee) यूरोप के रिसर्च सेंटर CERN में काम करते थे. वहां उन्होंने वर्ल्ड वाइड वेब का इजाद किया. उनकी वजह से आज करोड़ों लोग इंटरनेट का इस्तेमाल कर रहे हैं. WWW के उत्पत्ति के लक्षण 1980 में ही दिखने लगे थे. 1989-90 में पहली बार कंप्‍यूटर वैज्ञानिक टिम बर्नर्स ली (Tim Berners-Lee) ने वर्ल्ड वाइड वेब (World Wide Web) का आइडिया दिया था. उस समय टिम (Tim Berners-Lee) को अंदाजा भी नहीं था कि वर्ल्ड वाइड वेब (WWW) इतना बड़ा आकार ले लेगा. हम आपको बताने जा रहे हैं कि कैस आया वर्ल्ड वाइड वेब
Also Read - HOW TO FLUSH KIDNEY STONES NATURALLY WITH JUST FOUR INGREDIENTS

1. टिम बर्नर्स ली (Tim Berners-Lee) ने स्विटजरलैंड में यूरोपीय नाभिकीय अनुसंधान संगठन (CERN)में नौकरी करने के दौरान ब्राउजर कंप्यूटर प्रोग्राम लिखा था. उन्‍होंने तीन टेक्‍नोलॉजी के फंडामेंटल लिखे जिनमें, HTML, URL और HTTP शामिल है. 6 अगस्त 1991 को टिम (Tim Berners-Lee) ने वर्ल्ड वाइड वेब प्रोजेक्ट का रिसर्च पेपर पब्लिश किया.
2. इस रिसर्च पेपर में टिम (Tim Berners-Lee) ने CERN के अपने मैनेजर से एक ऐसे इंफॉर्मेशन सिस्टम की मांग की थी जो उनकी लैब में एक कम्प्यूटर से दूसरे को कनेक्ट कर सके. टिम (Tim Berners-Lee) का यह प्रपोजल स्वीकार कर लिया गया और इसके बाद यूनिवर्सिटी और रिसर्चर्स एक कनेक्शन नेटवर्क से जुड़े.
3. यह था इंटरनेट पर पहला कम्युनिकेशन. 1991 में वेब ब्राउजर को CERN के बाहर रिलीज किया गया. अन्य रिसर्च संगठनों ने भी इस पर काम किया. इस तरह से 6 अगस्त को इंटरनेट का जन्म हुआ. पहली वेबसाइट http://info.cern.ch थी.
4. इसके बाद शुरू हुआ वो दौर जिसने आज के जमाने के इंटरनेट की नींव रखी. इस दौर में कई वेब कंपनियों ने जन्म लिया. जिसमें गूगल, अमेजन जैसी कंपनियां शामिल हैं.
5. भारत में जन सामान्य के लिए इंटरनेट सेवा का आरम्भ 15 अगस्त 1995 को किया गया जिसे विदेश संचार लिमिटेड द्वारा प्रारम्भ किया गया. सिस्को की विजुअल नेटवर्किंग इंडेक्स (VNI) की रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2021 तक इंटरनेट यूजर्स की संख्या बढ़कर 82.9 करोड़ हो जाएगी.
Source  - NDTV

Follow by Email