गुना में 17 अपराध | अदालत ने गृहमंत्री, डीजीपी, राज्यपाल और जम्मू पुलिस अधिकारियों को लिखा था पत्र


15 गनर के साथ पेशी पर आया ये क्रिमिनल, 6 लोगों के कत्ल के कारण मिली है फांसी

गुना/भोपाल. जम्मू में एक व्यवसायी, उसकी पत्नी, बेटी सहित 6 लोगों की हत्या के आरोप में 7 साल से जेल में बंद और फांसी की सजा पाए संग्राम पारदी को जम्मू पुलिस मंगलवार को गुना लेकर आई। सुरक्षा इतनी तगड़ी थी कि जिस जगह से इस बदमाश को लेकर पुलिस अदालत तक पहुंची, वहां से लोगों को हटा दिया था। पारदी समुदाय के लोग उससे मिलने का प्रयास करते रहे, लेकिन सफलता हाथ नहीं लगी।

धरनावदा थाना क्षेत्र के ग्राम खेजरा चक निवासी बदमाश संग्राम सिंह पारदी को जम्मू पुलिस मंगलवार सुबह 10.30 बजे गुना लेकर आई। पुलिस के एक बड़े वाहन से उसे लाया गया। सुरक्षा इतनी तगड़ी थी कि 15 जवान और पुलिस अधिकारी साथ में थे और सभी के पास अत्याधुनिक गन थीं। उसे उस अदालत में लेकर पहुंचे, जहां उसकी पेशी थी। बाहर भी गनर तैनात हो गए। करीब 1 घंटे तक उसकी दो मामले में पेशी हुई। वापस ले जाने के लिए दूसरे रास्ते पर वाहन खड़ा किया और तगड़ी सुरक्षा के बीच उसमें बिठा दिया गया। जब आरोपी को लेकर जम्मू पुलिस जाने लगी तो कैंट थान से फालो वाहन भी आ गया और उसे सुरक्षित गुना क्षेत्र से निकालकर आया।

हत्या के आरोप में सात साल से जेल में बंद संग्राम पारदी को हाल ही में सुनाई गई है फांसी की सजा
आपसी विवाद में किया था हमला
आरोपी संग्राम सिंह के खिलाफ धरनावदा थाना क्षेत्र में वर्ष 2007 एवं 2008 में हत्या के प्रयास के मामले दर्ज हुए थे। इन मामलों में फरियादी विक्रम और धनमान की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ प्रकरण दर्ज किए गए। इसके बाद यह मामला अदालत में पेश हुआ। इन्हीं दोनों मामले में आरोपी पेश नहीं हो रहा था।
17 अपराध गुना के थानों में हैं दर्ज
आरोपी के खिलाफ गुना के कई थाने में 17 अपराध दर्ज हैं। इसमें लूट, मारपीट, बलवा, हत्या के प्रयास, आर्म्स एक्ट सहित कई अपराध दर्ज हैं। इसके अलावा दिल्ली में 3 हत्याएं, लूट और कोटा, बारां सहित कई राज्यों में भी वह वारदात कर चुका है।
आशंका थी कि बदमाश के साथी हरकत कर सकते हैं
जम्मू पुलिस बदमाश को पिछले 7 साल से सिर्फ इस आशंका के चलते पेशी पर नहीं ला रही थी कि आरोपी हरकत कर भाग सकता है। हालांकि आरोपी को पेशी के लिए 15 से ज्यादा वारंट जारी हुए। इसके अलावा मप्र के गृहमंत्री, डीजीपी, राज्यपाल सहित जम्मू के आला अधिकारियों को भी इसे पेश करने के लिए पत्र लिखे गए, फिर भी पेशी नहीं हो सकी।
6 लोगों की हत्या के मामले में सुनाई गई है फांसी
आरोपी संग्राम सिंह और उसके 7-8 साथियों ने जम्मू के त्रिकूटा नगर निवासी बिजनेस मैन जिंदल गुलशन चौपड़ा, राजेंद्र गुलशन एवं उनकी पत्नी मधु चौपड़ा, बेटी सलोनी चौपड़ा, ड्राइवर सोनू एवं नौकर जठन की हत्या कर दी थी। उसने यह वारदात 17-18 सितंबर 2006 की रात अंजाम दी थी और करोड़ों रुपए का माल लूट लिया था। इसी मामले में संग्राम को जम्मू की अदालत ने फांसी की सजा सुनाई है।
जम्मू हाईकोर्ट ने दी अनुमति तब पेशी पर लाया गया
पिछले माह आरोपी को जम्मू में फांसी की सजा सुनाई गई तो धरनावदा पुलिस सक्रिय हो गई। एसडीओपी अनुराग पांडे, थाना प्रभारी धरनावदा बलवीर सिंह मावई ने कलेक्टर से अनुमति ली और 5 सितंबर को जम्मू के लिए रवाना हुए। जम्मू हाईकोर्ट की डबल बैंच में इस्तगासा लगाया और आरोपी को पेशी पर भेजने के लिए अनुरोध किया, इसके बाद उसे गुना लाया जा सका।
Source - Danik Bhaskar

Follow by Email