एक अक्टूबर से बदलने जा रहें हैं ये छह नियम

'देशभर में एक अक्टूबर छह नए नियम लागू होने जा रहे हैं, जानिए इनके बारे में

नई दिल्ली (जेएनएन)। 28 सितंबर से लेकर 2 अक्टूबर एक लंबा वीकेंड पड़ रहा है और कुछ तो इस वीकेंड पर कहीं जाने की योजना भी बना चुके होंगे। ऐसे में आपके लिए यह जानना बेहद जरूरी है कि 1 अक्टूबर से देश में काफी कुछ बदलने वाला है। ये सभी बदलाव कहीं न कहीं आम आदमी से जुड़े हुए हैं। तो जानिए 1 अक्टूबर से देश में कौन से नए बदलाव देखने को मिलेंगे।

एक अक्टूबर से इन 6 बैंकों के चेक हो जाएंगे अमान्य

SBI के पांच पूर्व सहयोगी बैंक एवं भारतीय महिला बैंक के चेक और IFS कोड 30 सितंबर 2017 के बाद मान्य नहीं होंगे। इन्हें 1 अक्टूबर से अमान्य करार दिया जाएगा। एसबीआई ने ग्राहकों से कहा है कि नई चेक बुक के लिए इंटरनेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग, एटीएम या फिर शाखा में जाकर तुरंत आवेदन कर लेना चाहिए। जानकारी के लिए बता दें कि जिन सहयोगी बैंकों का एसबीआई में विलय किया गया है उनमें स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, स्टेट बैंक ऑफ पटियाला, स्टेट बैंक ऑफ त्रवणकोर और भारतीय महिला बैंक शामिल हैं।

ट्राई ने घटाए IUC चार्ज:

ट्राई ने कॉल कनेक्ट करने के लिए एक टेलिकॉम ऑपरेटर की ओर से दूसरे को अदा किए जाने वाले कॉल टर्मिनेशन शुल्क को 14 पैसे से घटाकर छह पैसे प्रति मिनट कर दिया है। शुल्क की नई दर पहली अक्टूबर से लागू होगी। यही नहीं, जनवरी, 2020 से इस शुल्क को पूरी तरह समाप्त कर दिया जाएगा।

मिनिमम मंथली एवरेज बैलेंस लिमिट को किया कम

एसबीआई ने मिनिमम मंथली एवरेज बैलेंस (एमएबी) लिमिट को कम कर दिया है। अब मेट्रो शहरों में सेविंग बैंक अकाउंट होल्डर के लिए 3,000 रुपए का मिनिमम एवरेज बैलेंस (मंथली) ही अनिवार्य होगा। इससे पहले यह लिमिट 5,000 रुपए थी। यह नया नियम 1 अक्टूबर से प्रभावी होगा। बैंक ने बताया कि उसने फैसला किया है कि मेट्रो शहरों में मिनिमम एवरेज बैलेंस को घटाकर 3,000 रुपए कर दिया जाए। वहीं शहरी, अर्ध शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में मिनिमम बैलेंस की शर्त क्रमश: 3,000 रुपए, 2,000 रुपए और 1,000 रुपए पर बरकरार रहेगी।

एसबीआई में एकाउंट बंद कराने पर कोई शुल्क नहीं

एसबीआई ने पहली अक्टूबर से एकाउंट बंद कराने के चार्जेस में बदलाव किया है। नए नियमों के मुताबिक अगर कोई ग्राहक खाता खुलवाने के एक वर्ष के भीतर उसे बंद करवाता है तो उसे किसी भी तरह का शुल्क नहीं देना पड़ेगा। साथ ही यदि किसी व्यक्ति की मृत्यु के बाद उसके खाते की सेटलमेंट की जाती है और खाता बंद किया जाता है तो उस स्थिति में भी कोई शुल्क नहीं लगाया जाएगा। रेग्युलर सेविंग बैंक एकाउंट और बेसिक सेविंग बैंक डिपॉजिट एकाउंट के बंद कराने पर भी किसी तरह का शुल्क नहीं लिया जाएगा। वहीं, कोई खाताधारक एकाउंट खुलने के 14 दिनों के भीतर उसे बंद करवाता है तो कोई शुल्क नहीं वसूला जाएगा।

बदल जाएगी सामान की एमआरपी

जीएसटी लागू होने के बाद अब 1 अक्टूबर से बाजार में पुरानी एमआरपी वाला समान नहीं बेचा जा सकेगा। सरकार के आदेश अनुसार सभी प्रोडक्ट्स पर नई एमआरपी लिखकर बेचना होगा और इसमें जीएसटी अलग से नहीं लगाया जा सकेगा। अगर कोई पुरानी एमआरपी पर सामान बेचता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

एक अक्टूबर से सभी लेन पर इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन सिस्टम होगा लागू

एक अक्टूबर से राष्ट्रीय राजमार्गों की सभी लेनों में इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन (ईटीसी) प्रणाली लागू हो जाएगी। यही नहीं, इसके लिए जरूरी फास्टैग अब ऑनलाइन उपलब्ध होंगे। इसके लिए भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआइ) ने ‘माई फास्टैग’ और ‘फास्टैग पार्टनर’ नामक दो मोबाइल एप भी लॉन्च की हैं।

By Surbhi Jain - Jagran

Follow by Email