भूषण स्टील के अधिग्रहण से वित्त मंत्रालय खुश, बैंकों को बड़े फायदे की उम्मीद



भूषण स्टील मामले के सफल निष्कर्ष के बाद वित्त मंत्रालय उत्साहित है। मंत्रालय को उम्मीद है कि RBI द्वारा सभी 12 NPA की दीवालिया प्रक्रिया शुरू करने के निर्देश के बाद बैंकों को 1 लाख करोड़ रुपया वापस मिल सकता है। बता दें कि पिछले सप्ताह टाटा ग्रुप ने कर्ज में डूबी भूषण स्टील लिमिटेड कंपनी के 72 फीसदी हिस्से का अधिग्रहण कर लिया। 3600 करोड़ का यह सेटलमेंट बैंकिंग सिस्टम को साफ करने में मदद करेगा और कर्जदाताओं को भी इससे लाभ मिलेगा। 

वित्त मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि बचे हुए 11 एनपीएके मामले भी कतार में हैं। दीवालिया के प्रस्ताव के बाद मिलने वाला धन सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों पर बोझ कम करने का काम करेगा। पिछले साल जून में आरबीआई की आंतरिक सलाहकार समिति ने 12 अकाउंट्स की पहचान की थी जिनपर 5,000 करोड़ से ज्यादा का कर्ज है और बैंकों के कुल NPA में उनकी हिस्सेदारी 25 फीसदी है। 

आरबीआई के निर्देशों के बाद बैंकों ने 12 अकाउंट्स की जानकारी दी जिनका बकाया कर्ज 1.75 लाख करोड़ है। इनमें भूषण स्टील लिमिटेड, भूषण पावर ऐंड स्टील लिमिटेड, जेपी इन्फ्राटेक लिमिटेड, लैंको इन्फ्राटेक, मोनेट इस्पात ऐंड इनर्जी लिमिटेड, ज्योति स्ट्रक्चर्स लिमिटेड, इलेक्ट्रोस्टील स्टील्स लिमिटेड, ऐमटेक ऑटो लिमिटेड, एरा इन्फ्रा इंजिनियरिंग लिमिटेड, आलोक इंडस्ट्रीज लिमिटेड और एबीजी शिपयार्ड लिमिटेड शामिल हैं। 

नैशनल कंपनी लॉ ट्राइब्यूनल (NCLT) की कोलकाता बेंच ने वेदांता रिसॉर्सेज के इलेट्रोस्टील स्टील्स को अधिग्रहित करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। भूषण पावर ऐंड स्टील के पास बैंकों का 48,000 करोड़ रुपये का बकाया है और पिछले साल जून में पंजाब नैशनल बैंक द्वारा एनसीएलटी को भेजा गया था। पिछले सप्ताह टाटा स्टील के BNPL ने 36,400 करोड़ रुपये चुकाकर 72.65 फीसदी हिस्सेदारी खरीद ली। पीएनबी ने अपने बयान में कहा है कि इससे बैंक को फायदा मिलेगा। इस रिजॉल्यूशन के बाद पीएनबी का 3,857 करोड़ का एनपीए कम हो जाएगा। 

सूत्रों का कहना है कि इससे बैंकों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा और 735 करोड़ का फायदा हो सकता है। कंपनी का वैलुएशन बढ़ने से इसका 12 प्रतिशत लाभ पीएनबी समेत बड़े कर्जदाताओं को मिल सकता है। वहीं बैंक ऑफ इंडिया का कहना है कि भूष्ण स्टील के अधिग्रहण से उसे 1993 करोड़ का लाभ हो सकता है।

Source - Nav Bharat 

Follow by Email