फुटबॉल वर्ल्ड कप जीतने पर फ्रांस को बधाई देकर ट्रोल्स के निशाने पर आईं किरण बेदी, कांग्रेस ने मांगा इस्तीफा



फीफा वर्ल्ड कप में फ्रांस की जीत पर बधाई देने समय पुडुचेरी की राज्यपाल किरण बेदी ने पुडुचेरी के फ्रांस से संपर्क का हवाला दिया, जिसके बाद उन पर तीखे हमले शुरू हो गए.

नई दिल्ली: फुटबॉल वर्ल्ड कप जीतने पर दुनिया भर में फ्रांस के समर्थक खुशियां मना रहे हैं, लेकिन पुडुचेरी की राज्यपाल किरण बेदी ने फ्रांस की जीत को लेकर जब एक ट्वीट किया तो वो ट्रोल्स के निशाने पर आ गईं. ट्रोल्स ने उन्हें जमकर राष्ट्रवाद का पाठ पढ़ाया. दरअसल फ्रांस के जीतने पर किरण बेदी ने ट्वीट किया कि पुडुचेरी वर्ल्ड कप जीत गई. दरअसल पुडुचेरी पहले फ्रांस का उपनिवेश था. बेदी ने इसी बात का हवाला दिया. 

किरण बेदी ने ट्वीट किया, 'हम पुडुचेरीवासी (पूर्व फ्रांसीसी क्षेत्र) वर्ल्ड कप जीत गए. बधाई हो दोस्तों. क्या मिलीजुली टीम है - सभी फ्रैंच हैं. खेल जोड़ता है.' किरण बेदी ने जैसे ही ये ट्वीट किया वो ट्रोल्स के निशाने पर आ गईं. ट्वीट पर लोगों ने उन्हें जमकर 'राष्ट्रवाद' का पाठ पढ़ाया. फ्रांस ने क्रोएशिया को 4-2 से हरा कर फुटबॉल वर्ल्ड कप जीता है.

कांग्रेस ने जताई आपत्ति
कांग्रेस पार्टी नेता अजय माकन ने भी उनके इस ट्वीट पर कड़ी आपत्ति जताई है और मांग की है कि प्रधानमंत्री को उन्हें तुरंत वापस बुला लेना चाहिए. उन्होंने कहा, 'किरण बेदी के बयान को स्वीकार नहीं किया जा सकता और निश्चित रूप से एंटी-नेशनल है. नरेंद्र मोदी जी को उन्हें तत्काल वापस बुला लेना चाहिए.' माकन ने तंज करते हुए कहा कि बेदी की जगह लेने के लिए डॉ. हर्षवर्धन, मनोज तिवारी या विजय गोयल के नाम पर विचार किया जा सकता है.

भाजपा ने किरण बेदी को दिल्ली विधानसभा चुनावों के दौरान मुख्यमंत्री पद का प्रत्याशी बनाया था. हालांकि इस चुनाव में पार्टी को बुरी तरह हार का सामना करना पड़ा. उसके कुछ दिनों बाद उन्हें पुडुचेरी का राज्यपाल बना दिया गया. 

ट्रोल्स ने साधा निशाना 
अभिषेक राजा ने बेदी की आलोचना करते हुए कहा, 'आप खुश हैं कि हम फ्रांसीसी उपनिवेश थे... और हम दिल्ली के मूर्ख आपको मुख्यमंत्री बनाने का सपना देख रहे थे. मैंने आपको हमेशा भारतीय क्षेत्र का राज्यपाल माना, लेकिन... जाने दीजिए.' संजय ने लिखा, 'मुझे लगता है मैम फ्रांस की जीत की खुशी मना रही है. क्या पुडुचेरी अभी भी फ्रांस का दास है.' 

बलराम खान ने तंज करते हुए ट्वीट किया, 'पूरा भारत दुखी है क्योंकि भारत (पूर्व ब्रिटिश क्षेत्र) चौथे स्थान पर आया.' वेंकटेश बालीगा नाम के एक यूजर ने लिखा, 'क्या इस ट्वीट को एंटी नेशनल माना जाएगा.' जीतू कृष्णन ने लिखा, 'कल्पना कीजिए अगर इंग्लैंड जीता होता... आरएसएस राष्ट्रीय अवकाश घोषित कर देता.' 

कॉमन मैन नाम के यूजर ने लिखा, 'क्या आप पागल हैं? गर्व का छण तब होगा जब भारत फीफा वर्ल्ड कप जीत जाएगा.' गिरीश जोशी ने ट्वीट किया, 'ऐसे घटिया ट्वीट की उम्मीद अरविंद केजरीवाल से भी नहीं की जा सकती. भारत की पहली आईपीएस अधिकारी ने एक संवैधानिक पद का कैसा मजाक बनाया है. आपको इस्तीफा दे देना चाहिए मैम.'

Source - ZEENEWS

Follow by Email