मोदी सरकार पर बरसे मनमोहन, कहा- 2 करोड़ नौकरियों का इंतजार कर रहे युवा



पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार को एक बार फिर से आड़े हाथ लिया. आज कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल की किताब ‘शेड्स ऑफ ट्रुथ’ के विमोचन के मौके पर उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने जो वादे किए थे, उन्हें पूरा नहीं किया. मोदी सरकार ने दो करोड़ रोजगार देने का वादा किया था, लेकिन देश के युवा आज भी नौकरी का इंतजार कर रहे हैं.

मनमोहन ने कहा कि सरकार जो आंकड़े दे रही है, हकीकत उससे कहीं अलग है. बेरोजगारी दर पिछले चार साल में बढ़ी है. उन्होंने कहा कि देश में कृषि की स्थिति बदहाल है. औद्योगिक उत्पादन और विकास की रफ्तार थम गई है. उन्होंने मोदी सरकार के नोटबंदी और जीएसटी के फैसले को भी कठघरे में खड़ा किया.


इससे पहले कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने नोटबंदी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा और कहा कि अगर वह दूसरे देश में होते उनको इस्तीफा देना पड़ता. सिब्बल ने कहा, ‘महान नेता (मोदी) ने हमें नोटबंदी दी जिससे हमने जीडीपी का 1.5 हिस्सा गंवा दिया. अगर वह किसी दूसरे देश में होते जो उनको इस्तीफा देना पड़ता. उन्होंने कहा कि जिस तरह से जीएसटी को लागू किया गया उससे बहुत नुकसान हुआ.



सिब्बल ने कहा कि वह (मोदी) हम पर नीतिगत पंगुता का आरोप लगाते थे, लेकिन यही नीतिगत पंगुता 8.2 फीसदी की औसत जीडीपी लेकर आई जो भारत के इतिहास में कभी नहीं हुआ. आप सोचिए कि आज कोई नीतिगत पंगुता नहीं है, लेकिन अर्थव्यवस्था की क्या स्थिति है?

इस मौके पर मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि अगला चुनाव इस सरकार को हटाने के लिए होगा. येचुरी ने कहा कि मैं कहता हूं कि यह चुनाव नेताओं के बीच नहीं होगा, बल्कि मोदी और भारत के बीच होगा. चुनाव मोदी बनाम भारत होगा.

लोकतांत्रिक जनता दल के नेता शरद यादव ने कहा कि पहले भी बिना नेता के विपक्षी गठबंधन चुनाव लड़कर कामयाब हो चुके हैं और इस बार भी ऐसा ही होगा. उन्होंने कहा कि 1977 में मोरारजी देसाई को चुनाव बाद प्रधानमंत्री चुना गया. 1989 में भी वीपी सिंह और 1990 के दशक में देवगौड़ा को इसी तरह चुना गया.

Source - Aaj Tak 


Follow by Email