इसलिए सबसे अलग हैं JNU छात्रसंघ चुनाव, ऐसे चुना जाता है अध्यक्ष



जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में छात्रसंघ चुनाव का शंखनाद हो चुका है और जल्द ही जेएनयू के छात्र अपने नए अध्यक्ष का चुनाव करेंगे. इस बार जेएनयू में प्रेसिडेंशियल डिबेट 12 सितंबर और वोटिंग 14 सितंबर का होगी. वोटिंग के बाद 16 सितंबर के नतीजे घोषित कर दिए जाएंगे. जेएनयू के अध्यक्ष और चुनाव के बारे में तो आप बहुत सुनते होंगे, लेकिन क्या आप जानते हैं आखिर ये चुनाव कैसे होते हैं और यह अन्य विश्वविद्यालयों से अलग क्यों होते हैं. आइए जानते हैं जेएनयू चुनावों में क्या अलग होता है...

जेएनयू छात्रसंघ के चुनाव भी छात्रों द्वारा ही करवाए जाते हैं. डिबेट से लेकर चुनावों के आयोजन का संचालन जेएनयू छात्रसंघ की चुनाव समिति के हाथ में होता है. इसमें जेएनयू प्रशासन की जेएनयू छात्रसंघ के चुनाव भी छात्रों द्वारा ही करवाए जाते हैं. डिबेट से लेकर चुनावों के आयोजन का संचालन जेएनयू छात्रसंघ की चुनाव समिति के हाथ में होता है. इसमें जेएनयू प्रशासन की अहम भूमिका नहीं होती है.

अहम भूमिका नहीं होती है.

सभी सेंटर के छात्रों की एक चुनाव समिति गठित की जाती है. इसमें नियुक्त मुख्य चुनाव आयुक्त सहित 18 लोग होते हैं. इस बार इसमें मुख्य चुनाव आयुक्त स्नातकोत्तर द्वितीय वर्ष के छात्र हिमांशु कुलश्रेष्ठ को चुना गया है.



चुनाव के दौरान लिंगदोह समिति की सिफारिशों को लागू किया जाता है. नामांकन वापस लेने की अंतिम तिथि को अंतिम रूप से चुनाव लड़ रहे उम्मीदवारों की सूची जारी की जाती है. हालांकि छात्र लिंगदोह समिति के बजाय छात्रसंघ संविधान से चुनाव करवाने की मांग करते रहते हैं.

उसके बाद वोटिंग से दो दिन पहले रात को डिबेट का आयोजन किया जाता है, जो कि बेहद खास होती है. जेएनयू में छात्रसंघ के चुनाव से दो दिन पहले विभिन्न पार्टी के अध्यक्ष पद के प्रत्याशी एक मंच पर जुटते हैं. इसका आयोजन भी जेएनयू छात्रसंघ की चुनाव समिति के हाथ में होता है.

यहां प्रत्याशी आगामी चुनाव के लिए अपने विचार और मुद्दे रखते हैं. इस बहस में मुख्य तौर पर कैम्पस के तमाम मुद्दों मसलन हॉस्टल, मेस, लाइब्रेरी, दिव्यांग स्टूडेंट को सुविधा दिलाने पर किसी प्रत्याशी की राय, देश के हालिया राजनीति और वैश्विक राजनीति पर बहस की जाती है.

कैसे होती है डिबेट- यह डिबेट तीन राउंड में होती है. पहले राउंड में सभी स्पीकर आकर अपनी बात आम छात्रों के सामने रखते हैं. इस भाषण के लिए 12 मिनट का समय मिलता है. भाषण के दस मिनट पूरे होने पर पहली वार्निंग बेल बजती है. इसके बाद प्रत्याशी को दो मिनट और दिए जाते हैं ताकि वो अपना भाषण तय समय पर पूरा कर सके.

दूसरे राउंड में हर प्रत्याशी बारी-बारी से मंच पर आते हैं. उनके विपक्षी बारी-बारी से उनसे दो सवाल पूछते हैं. हर प्रत्याशी को तय समय में इन सवालों का जवाब देना होता है.

चुनाव समिति की तरफ से हर प्रत्याशी के लिए आम छात्रों से सवाल मंगवाए जाते हैं. एक सादे कागज़ पर कोई भी छात्र किसी भी प्रत्याशी से सवाल पूछ सकता है. हर प्रत्याशी के लिए सवाल का अलग डिब्बा निर्धारित होता है. सवाल की इस चिट को इन डिब्बों में डाल दिया जाता है. तीसरे राउंड की शुरुआत में हर प्रत्याशी को अपने डिब्बे में बारी-बारी से सवालों की पर्चियां निकालनी होती हैं.

Source - Aaj Tak 


Follow by Email