गर्भवती महिला ने लगाई फांसी, तभी हुआ बच्चे का जन्म और फिर…

गर्भवती महिला ने लगाई फांसी, तभी हुआ बच्चे का जन्म और फिर…

'जाको राखे साइयां मार सके ना कोई' कबीर का सबसे प्रसिद्ध ये दोहा (Kabir Dohe) खतरनाक हादसों से बाल-बाल बचने वाले लोगों पर एकदम सटीक बैठता है. इस बार ये दोहा इस नवजात बच्चे के लिए कही जा सकती है. मध्य प्रदेश के कटनी (Katni, Madhya Pradesh) ने जन्मा एक नवजात अभी दुनिया में आया भी नहीं था, कि उसकी मां ने खुद को पंखे से फांसी लगा ली (Pregnant woman commit suicide). बच्चा अभी मां की कोख में ही है.
डॉक्टर उस लटकते हुए बच्चे की शिशु नाल काट उसे जिला अस्पताल में पहुंचाती है, जहां अब वो पूरी तरह से स्वस्थ्य है. 
बता दें, गरीबी से तंग आकर लक्ष्मी नाम की महिला ने आत्यहत्या (Woman suicide) की, जो 9 महीने गर्भवती थी. उनके पति संतोष ठाकुर खेतिहर मज़दूर हैं. मौके पर पहुंची सब इंस्पेक्टर कविता साहिनी ने बताया, ‘‘जब मैं मौके पर पहुंची, उस वक्त लक्ष्मी मर चुकी थी. उसी बीच मैंने अचानक देखा कि उसके पैरों से लटकता हुआ जिंदा एक नवजात बच्चा है, जो मृत महिला के गर्भनाल में जुड़ा हुआ था और उसके पैरों से लटका हुआ था. इस महिला का यह पांचवां बच्चा है. अत्यधिक गरीबी के चलते वह अपने बच्चों का लालन-पालन ठीक से नहीं कर पा रही थी.''
Source - NDTV

Follow by Email