सुरक्षा में फेल, पतंजलि ने कैंसिल की किंभो ऐप की रिलॉन्चिंग

सुरक्षा में फेल, पतंजलि ने कैंसिल की किंभो ऐप की रिलॉन्चिंग

इस साल की शुरुआत में बाबा रामदेव के पतंजलि ब्रांड ने अपने नए सोशल मैसेजिंग ऐप किंभो के साथ टेक की दुनिया में कदम रखा था. अब दो बार असफल होने के बाद कंपनी ने फिलहाल इस ऐप को रिलॉन्च करने का इरादा छोड़ दिया है. ये जानकारी एक रिपोर्ट के हवाले से मिली है.
द प्रिंट की एक रिपोर्ट के मुताबिक, अदिति कमल का साथ छोड़ने के बाद पतंजलि ने नोएडा बेस्ड ऐप मेकिंग फर्म सोशल रिवोल्यूशन मीडिया एंड रिसर्च प्राइवेट लिमिटेड के साथ साझेदारी की थी. आपको बता दें पतंजलि द्वारा मैसेजिंग प्लेटफॉर्म उतारने का आइडिया अदिति कमल का ही था.
मई और अगस्त में किंभो ऐप को दो बार लॉन्च किया गया. लेकिन दोनों ही लॉन्च असफल रहे, क्योंकि ये सिक्योरिटी एक्सपर्ट्स को पसंद नहीं आए. इसके बाद कंपनी ने फिलहाल के लिए ऐप को फिर से लॉन्च करने का इरादा छोड़ दिया है.
पतंजलि आयुर्वेद के सीईओ और मैनेजिंग डायरेक्टर आचार्य बालकृष्ण ने पब्लिकेशन से कहा कि हम टेक्निकल तरीके से परिपक्व और बेहद सिक्योर ऐप लॉन्च करना चाहते थे. हालांकि अभी हम किए गए काम से संतुष्ट नहीं हैं. हमने फिलहाल ऐप लॉन्च करने का आइडिया छोड़ दिया है क्योंकि हम आधा-अधूरा तैयार प्रोडक्ट बाजार में नहीं उतारना चाहते.
उन्होंने आगे कहा कि वर्तमान में, हम नए प्रोजेक्ट्स के साथ काफी व्यस्त हैं और मुझे नहीं लगता है कि हमारे पास किम्भो में आगे लगाने के लिए समय और संसाधन हैं. फिलहाल हमने इस प्रोजेक्ट को साइड रख दिया है और इसकी दोबारा लॉन्चिंग के लिए कोई तारीख तय नहीं की गई है.
पतंजलि किंभो ऐप की ब्रांडिंग 'स्वदेशी चैट ऐप' के रूप में की गई थी. जो भारत में फेसबुक के स्वामित्व वाले वॉट्सऐप की जगह ले सके. इस ऐप को सबसे पहले 30 मई को लॉन्च किया गया था. हालांकि खराब सिक्योरिटी फीचर्स होने की वजह से इसे 24 घंटे के भीतर गूगल प्ले स्टोर से हटा दिया गया था.
इसके बाद इस ऐप के ट्रायल वर्जन को 27 अगस्त के आधिकारिक लॉन्च से पहले एंड-टू-एंड एनक्रिप्शन के साथ 15 अगस्त को दोबारा लॉन्च किया गया. लेकिन जब ढेरों यूजर्स ने आ रही दिक्कतों को रिपोर्ट किया फिर ऑफिशियल लॉन्च से पहले ही इसे सुरक्षा कारणों के चलते गूगल प्ले स्टोर से हटा लिया गया और लॉन्च टल गया.
Source - Aaj Tak








Follow by Email