‘इन उपलब्धियों’ से यह साल भारतीय टेबल टेनिस का सर्वश्रेष्ठ साल बन गया

‘इन उपलब्धियों’ से यह साल भारतीय टेबल टेनिस का सर्वश्रेष्ठ साल बन गया

साल 2018 आगे बढ़ रहा है. इसी के साथ ही हम आपके लिए Flashback2018 के तहत लगातार भारत  या खिलाड़ियों की उपलब्धियों के बारे में आपको बताएंगे. इसी के तहत हम आपके लिए लेकर आए हैं कि टेबल टेनिस में यह साल भारत के लिए कैसा रहा.  इस साल भारतीय टेबल टेनिस ने वर्ष 2018 में विश्व में अपनी खास पहचान बनाई तथा जहां मनिका बत्रा ने राष्ट्रमंडल खेलों में अभूतपूर्व प्रदर्शन किया, तो वहीं एशियाई खेलों में भारत ने दो ऐतिहासिक पदक हासिल किए. भारत के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी शरत कमल ने इस साल में टेबल टेनिस में भारतीय प्रदर्शन के बारे में कहा कि दो पदकों की तो बात छोड़िए, अगर साल के शुरू किसी ने कहा होता कि हम एशियाई खेलों में एक पदक भी जीतेगा, तो मैं उसे मजाक समझता. यह इस तरह का साल रहा. यह मेरे लिए और भारतीय टेबल टेनिस के लिए सर्वश्रेष्ठ वर्ष रहा.
शरत की अगुवाई वाली भारतीय पुरुष टीम ने जकार्ता एशियाई खेलों में कांस्य पदक जीता. उसने क्वार्टर फाइनल में जापान को हराया था. यही नहीं शरत और मनिका ने मिक्स्ड डबल्स में भी कांस्य पदक हासिल किया. एशियाई खेलों में टेबल टेनिस को 1958 में शामिल किया गया था और यह पहला अवसर था जबकि भारत इसमें पदक जीतने में सफल रहा.
इस खेल ने जहां लंबी छलांग लगायी वहीं भारत को मनिका के रूप में एक नई स्टार भी मिली. उन्होंने राष्ट्रमंडल खेलों में महिला टीम और महिला एकल में स्वर्ण सहित कुल चार पदक जीते. मनिका ने महिला एकल में विश्व की तत्कालीन नंबर चार खिलाड़ी सिंगापुर फेंग तियानवी को दो बार हराया. बाद में उन्होंने युगल में रजत और मिश्रित युगल में कांस्य पदक भी अपनी झोली में डाला. अपने इस प्रदर्शन के कारण उन्होंने अंतरराष्ट्रीय टेबल टेनिस महासंघ (आईटीटीएफ) का उदीयमान स्टार का पुरस्कार भी जीता. 


शरत और साथियान ने भी साल के आखिर में अपनी सर्वश्रेष्ठ रैंकिंग हासिल की. शरत ताजा रैंकिंग में 30वें और साथियान 31वें स्थान पर हैं. भारतीय खिलाड़ी अगले साल ओलंपिक क्वालीफिकेशन को ध्यान में रखकर 14 से 16 प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेंगे. भारत का लक्ष्य अब ओलिंपिक  में पदक जीतकर इतिहास रचना होगा और खिलाड़ियों ने इसकी उम्मीदें जगा दी है.
Source - NDTV 

Follow by Email