इजरायली वैज्ञानिकों का दावा, एक साल के भीतर ढूंढ लेंगे कैंसर का इलाज

इजरायली वैज्ञानिकों का दावा, एक साल के भीतर ढूंढ लेंगे कैंसर का इलाज

एक इजरायली फार्मा कंपनी ने दावा किया है कि उसके पास एक साल के भीतर कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी को जड़ से खत्म करने का इलाज मौजूद होगा.
एक्सीलरेटेड एवॉल्यूशन बायोटेक्नॉलजीस (AEBi) नाम की कंपनी ने कैंसर का इलाज ढूंढ निकालने की बात कही है. इस कंपनी के बोर्ड चेयरमैन डैन एरिडोर ने कहा कि कैंसर का पूरी तरह से इलाज जल्द ही संभव होगा.
कंपनी के बोर्ड चेयरमैन एरिडोर ने द जेरुसलम पोस्ट को बताया, "हमारा कैंसर का इलाज पहले दिन से ही प्रभावी होगा और यह कुछ हफ्तों तक चलेगा. इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होगा और बाजार में मौजूद दूसरे ट्रीटमेंट की तुलना में काफी सस्ता होगा. हमारा ट्रीटमेंट जेनरिक और पर्सनल दोनों होगा."
द जेरूसलम पोस्ट के मुताबिक, AEBi के कैंसर के इलाज को MuTaTo नाम दिया गया है जिसका अर्थ 'मल्टी टार्गेट टॉक्सिन' है. कंपनी का कहना है कि इस ट्रीटमेंट में कई पेप्टाइड्स एक साथ कैंसर कोशिकाओं पर हमला कर उन्हें खत्म कर देंगे. ये पेप्टाइड्स अमीनो एसिड की श्रृंखला के कंपाउंड होंगे. कई स्तरों पर कैंसर कोशिकाओं पर होने वाला यह हमला ही इलाज को असरदार बनाएगा.
AEBi CEO इलान मोराड ने बताया, हमने यह भी सुनिश्चित किया है कि कैंसर का इलाज म्यूटेशन से प्रभावित ना होने पाए, कैंसर कोशिकाएं इस तरीके से म्यूटेट हो सकती हैं कि टार्गेट किए गए रिसेप्टर्स कैंसर से बच जाएं. हम एक बार में रिसेप्टर्स पर एक हमला करने के बजाय एक बार में तीन अटैक करेंगे. यहां तक कि कैंसर भी एक बार में तीन रिसेप्टर्स को म्यूटेट नहीं कर सकता है."
मोराड ने दावा किया कि AEBi ने अपने कैंसर ट्रीटमेंट का प्रयोग चूहों में किया और इस प्रक्रिया में चूहों की स्वस्थ कोशिकाओं को बिल्कुल नुकसान नहीं पहुंचा. कंपनी ने कई in-vitro ट्रायल पूरे कर लिए हैं और जल्द ही इसका क्लीनिकल ट्रायल शुरू हो जाएगा. AEBi के CEO ने कहा कि ये परीक्षण कुछ सालों के भीतर ही पूरे हो जाएंगे और कुछ खास कैंसर मामलों के लिए जल्द उपलब्ध भी होंगे.
इजरायली कंपनी ने दावे तो बहुत किए हैं लेकिन किसी ऐसी रिसर्च का जिक्र नहीं किया है जिससे उनके दावे की पुष्टि हो सके. हालांकि, AEBi ने जिस तरह के ट्रीटमेंट का दावा किया है, वह वाकई अनोखा है. दुनिया भर में होने वाली मौतों में कैंसर दूसरी सबसे बड़ी वजह है इसलिए कैंसर के इलाज का मेडिकल दुनिया बेसब्री से इंतजार कर रही है.
Source - Aaj Tak

Follow by Email