5 Feb 2019

वह आध्यात्मिक संसदीय क्षेत्र जहां है दुनिया की सबसे बड़ी रसोई

वह आध्यात्मिक संसदीय क्षेत्र जहां है दुनिया की सबसे बड़ी रसोई

ओडिशा में स्थित पुरी भारत का वह आध्यात्मिक संसदीय क्षेत्र है जहां दुनिया की सबसे बड़ी रसोई है. महाप्रभु जगन्नाथ की इस रसोई में एक साथ 50 हजार लोगों के लिए महाप्रसाद बनता है. एक एकड़ में फैली 32 कमरों वाली इस विशाल रसोई में महाप्रसाद तैयार करने के लिए 752 चूल्हे जलते हैं. इस रसोई में लगभग 500 रसोइए और 300 सहयोगी काम करते हैं. पुरी में निकलने वाली रथ यात्रा दुनिया भर के हिन्दुओं के लिए आस्था और आकर्षण का केन्द्र है.
अगर इस सीट के राजनीतिक मिजाज की बात करें तो यहां पर भारतीय राजनीति के क्षत्रप नवीन पटनायक और उनकी पार्टी का दबदबा रहा है. हालांकि 2019 में ओडिशा में बीजेपी की सक्रियता से यहां से नए रूझान मिल रहे हैं. बीजेपी नेतृत्व से मिल रहे संकेतों के मुताबिक पार्टी यहां से अपने एक कद्दावर उम्मीदवार को उतार सकती है.
राजनीतिक पृष्ठभूमि
भगवान जगन्नाथ की नगरी पुरी में पहली बार चुनाव 1952 में हुए. इस सीट पर कांग्रेस और बीजू जनता दल का प्रभुत्व रहा है. मौजूदा सांसद पिनाकी मिश्रा पहली बार 1996 में कांग्रेस के टिकट पर चुनाव जीते थे. लेकिन 1998 के लोकसभा चुनाव में इस सीट पर बीजू जनता दल के ब्रज किशोर त्रिपाठी जीते. ब्रज किशोर त्रिपाठी बीजू जनता दल के टिकट पर 2004 तक लगातार चुनाव जीतते रहे. 2009 में भी इस सीट पर बीजू जनता दल ही चुनाव जीती, लेकिन इस बार पार्टी ने टिकट कांग्रेस में रहे पिनाकी मिश्रा को दिया था. 2009 के लोकसभा चुनाव में भी बीजेडी के टिकट पर पिनाकी मिश्रा जीते. 2014 में देश भर में मोदी की हवा होने के बावजूद इस सीट पर बीजेडी और पिनाकी मिश्रा ने अपना दबदबा कायम रखा. इस लोकसभा सीट पर बीजेपी कभी नहीं जीती है.
2014 का जनादेश
2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेडी के पिनाकी मिश्रा को 5 लाख 23 हजार 161 वोट मिले थे. जबकि कांग्रेस को सुचित्रा मोहंती को 2 लाख 89 हजार 800 वोट मिले. 2 लाख 15 हजार 763 वोट लाकर बीजेपी के अशोक साहू इस सीट पर तीसरे स्थान पर रहे थे. 2014 के लोकसभा चुनाव में इस सीट पर कुल 14 लाख 4 हजार 581 मतदाता थे. इसमें से पुरुष वोटर्स 7 लाख 42 हजार 939 थे. जबकि महिला मतदाताओं की संख्या 6 लाख 61 हजार 642 थी. इस सीट पर तब लगभग 74 प्रतिशत वोटिंग हुई थी.
सामाजिक ताना-बाना
पुरी लोकसभा का विस्तार ओडिशा के खोरधा, नयागढ़ और पुरी जिले में है. 2011 की जनगणना के मुताबिक यहां की जनसंख्या 19 लाख 11 हजार 898 है. यहां की 83.02 फीसदी आबादी गांवों में रहती है, जबकि लगभग 17 फीसदी आबादी शहरों में निवास करती है. इस क्षेत्र में अनुसूचित जाति के लोगों की आबादी 15.54 फीसदी है, जबकि अनुसूचित जनजाति का हिस्सा 1.47 फीसदी है.
पुरी में जगन्नाथ मंदिर होने की वजह से सालों भर यह क्षेत्र आध्यात्मिक पर्यटन का केन्द्र बना रहता है. इस वजह से यहां की अर्थव्यवस्था को काफी बल मिलता है.
पुरी लोकसभा सीट के तहत विधानसभा की 7 सीटें आती हैं. ये सीटें हैं पुरी, पिपली, नयागढ़, ब्रह्मगिरी, चिल्का, सत्याबदी और रानपुर सीट. 2014 के विधानसभा चुनाव में सत्याबदी सीट पर कांग्रेस को जीत मिली थी. जबकि चिल्का सीट पर बीजेपी के कैंडिडेट ने जीत हासिल की थी. बाकी 5 सीटों पर बीजू जनता दल ने कब्जा जमाया था.
2014 में पुरी लोकसभा सीट पर कुल मतदाताओं की संख्या 14 लाख 4 हजार 581 थी. इसमें पुरुष मतदाताओं का अनुपात 7 लाख 42 हजार 939 था, जबकि महिला वोटर्स की संख्या 6 लाख 61 हजार 642 थी. यहां 2014 में 74 फीसदी मतदान हुआ था.
सांसद का रिपोर्ट कार्ड
पिनाकी मिश्रा तीसरी बार लोकसभा में सांसद बने हैं. 59 साल के पिनाकी मिश्रा ने दिल्ली के प्रतिष्ठित संत स्टीफेंस कॉलेज से इतिहास में स्नातक किया है. उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से लॉ की भी डिग्री ली है. पिनाकी मिश्रा राजनीति के अलावा वकालत में सक्रिय रहे हैं. वह एक बेटा और एक बेटी के पिता है.
लोकसभा में सांसदों के कामकाज के आंकड़े जुटाने वाली वेबसाइट parliamentarybusiness.com के मुताबिक 16वीं लोकसभा में पिनाकी मिश्रा की सदन में उपस्थिति 84 फीसदी रही. वह सदन की कुल चली 321 दिन की कार्यवाही में 269 दिन मौजूद रहे. सदन में उन्होंने 326 सवाल पूछे. पिनाकी मिश्रा ने 11 डिबेट्स में हिस्सा लिया.
16वीं लोकसभा चुनाव में पुरी सांसद पिनाकी मिश्रा को साढ़े 22 करोड़ रुपये जारी किए गए. इस रकम में से उन्होंने 17.72 करोड़ रुपये विकास के कार्यों पर खर्च किए.
Source - Aaj Tak

Follow by Email