सीतापुर लोकसभा सीट: बसपा के गढ़ के क्या फिर इतिहास...



उत्तर प्रदेश की लोकसभा संख्या 30 सीतापुर अभी भारतीय जनता पार्टी का कब्जा है. बीजेपी के राजेश वर्मा ने 2014 में यहां बहुजन समाज पार्टी के उम्मीदवार को करारी मात दी थी. इस सीट पर कुर्मी समुदाय के लोगों का प्रभाव रहा है. 2019 के लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन होने से एक बार फिर यहां का मुकाबला दिलचस्प हो गया है.

सीतापुर लोकसभा सीट का राजनीतिक इतिहास

1952 के चुनाव से ही ये सीट चर्चा का विषय बनी रही है. 1952 और 1957 के चुनाव में इस सीट पर कांग्रेस की ओर से उमा नेहरु ने चुनाव जीता था. उमा नेहरु रिश्ते में पंडित जवाहर लाल नेहरु की भाभी लगती थीं, उन्होंने जवाहर लाल नेहरु के चचेरे भाई श्यामलाल से शादी की थी. 1962, 1967 के चुनाव में यहां भारतीय जनसंघ ने जीत दर्ज की थी. हालांकि, 1971 में एक बार फिर कांग्रेस ने यहां वापसी की.

1977 में जब आपातकाल के बाद चुनाव हुए तो कांग्रेस को यहां मुंह की खानी पड़ी. 1977 में भारतीय लोकदल यहां से चुनाव जीता. फिर 1980, 1984 और 1989 में कांग्रेस ने यहां जीत का हैट्रिक लगाई. 1990 में जब देशभर में मंदिर आंदोलन ने रफ्तार पकड़ी तो बीजेपी की भी किस्मत जागी. 1991 का चुनाव यहां से भारतीय जनता पार्टी ने अपने नाम किया.

1996 में समाजवादी पार्टी और 1998 में बीजेपी यहां से चुनाव जीती. 1999 से लेकर 2009 तक बहुजन समाज पार्टी ने लगातार तीन बार चुनाव जीता. लेकिन 2014 का चुनाव मोदी लहर के दम पर बीजेपी के खाते में ये सीट गई.

सीतापुर लोकसभा सीट का समीकरण

सीतापुर लोकसभा क्षेत्र की गिनती उत्तर प्रदेश की उन सीटों में होती है जहां पर कुर्मी वोटरों की संख्या निर्णायक है. 2014 के आंकड़ों के अनुसार यहां करीब 16 लाख वोटर हैं, जिनमें 8 लाख से अधिक पुरुष और 7.5 लाख से अधिक महिला वोटर हैं.

सीतापुर में कुल 5 विधानसभा सीटें आती हैं, जिनमें सीतापुर, लहरपुर, बिसवां, सेवता और महमूदाबाद विधानसभा सीटें हैं. 2017 के विधानसभा चुनाव में इनमें से सिर्फ महमूदाबाद सीट समाजवादी पार्टी के खाते में गई थी, बाकी सभी सीटें बीजेपी के पास गई थीं.

2014 में कैसा रहा जनादेश

पिछले चुनाव में यहां बहुजन समाज पार्टी का दामन छोड़ भारतीय जनता पार्टी में आए राजेश वर्मा ने जीत हासिल की. राजेश वर्मा को कुल 40 फीसदी वोट मिले थे, जबकि बहुजन समाज पार्टी की ओर से कैसर जहां को कुल 35 फीसदी वोट प्राप्त हुए थे. कैसर जहां 2009 में यहां से सांसद रह चुकी हैं. 2014 में यहां कुल 66 फीसदी मतदान हुआ था.

सांसद का प्रोफाइल और प्रदर्शन

स्थानीय सांसद राजेश वर्मा को प्रदेश की राजनीति का मंझा हुआ खिलाड़ी माना जाता है. 1996 में उन्होंने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत बहुजन समाज पार्टी से की थी. 1999 में वह पहली बार सांसद चुने गए. 2004 में वह सांसद भी चुने गए. 22 साल बाद बसपा में बिताने के बाद 2013 में उन्होंने भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया.

16वीं लोकसभा में उन्होंने कुल 15 बहस में हिस्सा लिया, इस दौरान उन्होंने 242 सवाल पूछे. 2014 में जारी ADR की रिपोर्ट के मुताबिक, उनके पास 4 करोड़ से अधिक की संपत्ति है.

Source -Aaj Tak 

Follow by Email