केजरीवाल ने दिल्ली जीतने के लिए बड़ा एलान किया, फ्री बिजली, फ्री मेट्रो से भी बड़ा



अरविंद केजरीवाल सरकार आखिरकार अपना फ्री वाई-फाई का वादा पूरा करने जा रही है. पूरी दिल्ली में कुल 11 हज़ार वाई-फाई हॉटस्पॉट लगाए जाएंगे. इसके लिए इंटरनेट सर्विस मुहैया कराने वाली कंपनियां टेंडर भरेंगी. जिस कंपनी को कॉन्ट्रैक्ट मिलेगा, वो हॉटस्पॉट लगाने और बाकी चीजों में निवेश करेगी. सरकार उसे प्रति हॉट स्पॉट के हिसाब से महीने के महीने भुगतान करेगी. पेमेंट का ये तरीका ‘रेंटल मॉडल’ यानी, किराये वाले सिस्टम पर होगा. इसके लिए सरकार को सालाना करीब 100 करोड़ रुपये खर्च करने होंगे.

3-4 महीने में ये प्रॉजेक्ट शुरू हो जाएगा
अगले तीन-चार महीने के अंदर इस प्रॉजेक्ट पर अमल किया जाएगा. 8 अगस्त को दिल्ली कैबिनेट ने एक मीटिंग में ये फैसला लिया. बैठक के बाद मुख्यमंत्री केजरीवाल ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसका ऐलान किया. फ्री वाई-फाई का ये वादा आम आदमी पार्टी (AAP) ने 2015 विधानसभा चुनाव के समय किया था. तब इंटरनेट काफी महंगा हुआ करता था. फिर जियो आया. बाकी कंपनियों को भी कॉम्पीटिशन की वजह से इंटरनेट सस्ता करना पड़ा. इंटरनेट की पहुंच काफी बढ़ गई. प्रति व्यक्ति खपत में भी काफी इज़ाफा हुआ. तकनीक भी काफी बदल गई. सरकार का कहना है कि इन कारणों से ये प्रॉजेक्ट धीमा कर दिया गया था.

प्रति यूज़र महीने में 15 GB इंटरनेट

जो 11 हज़ार हॉटस्पॉट लगाए जाएंगे, उनमें से करीब चार हज़ार हॉटस्पॉट बस स्टॉप पर लगेंगे. बाकी का बंटवारा यूं होगा कि प्रति विधानसभा 100 हॉटस्पॉट. सार्वजनिक जगहों पर इन्हें लगाया जाएगा. जैसे- पार्क, मुहल्ला क्लिनिक, कम्यूनिटी सेंटर वगैरह. हर हॉटस्पॉट का एरिया 50 मीटर होगा. हर हॉटस्पॉट पॉइंट पर एकसाथ लगभग 200 लोग इंटरनेट की सुविधा उठा सकेंगे. इंटरनेट के इस्तेमाल की सीमा 15 GB प्रति महीना प्रति व्यक्ति तय की गई है.

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा कि पहले चरण के अनुभवों, इसे मिले रेस्पॉन्स को देखकर आगे के प्रॉजेक्ट पर फैसला लिया जाएगा. दिल्ली सरकार ने तीन लाख CCTV लगवाने का भी ऐलान किया है. ये सारे CCTV एक ही चरण में लगाए जाएंगे.

Source - The lallan Top